शनिवार, 20 फ़रवरी 2010

REGISTER: दहेज:दोषी कौन?

दहेज के 90प्रतिशत केस फर्जी होते हैँ मेरा अन्वेषण इसके लिए वधु या वधुपक्ष को भी मानता है शादी तय होने वक्त या दाम्पत्य जीवन मेँ मानवीय मूल्योँ को महत्व न दे निर्जीव वस्तुओँ को महत्व देना रिश्तोँ के बीच कब तक सहजता बनाये रख सकता है?दहेज के 90प्रतिशत केस मेँ वधु या वधु पक्ष ही दोषी है .यह पर्दे के पीछे का सच है. दर असल समाज अपनी आत्मा खो चुका है हमारे आदि विद्वानोँ ने तो शादी एवं परिवार का उद्देश्य धर्म माना था न कि काम.बुद्ध ने कहे दुख का कारण तृष्णा 'काम 'है. अशोक कुमार आ .ब .वि. इण्टर कालेज. कटरा शाहजहाँपुर. akvashokbindu@gmail.com antaryahoo.blogspot.com

कोई टिप्पणी नहीं: