गुरुवार, 3 नवंबर 2011

महिला सशक्तिकरण के अभिशाप !

नारी सशक्तिकरण का परिणाम है कि वर्तमान मेँ नब्बे प्रतिशत दहेज
प्रकरण झूठे हैँ . मानव सत्ता के स्वस्थ विकास के लिए न नारी सशक्तिकरण
चाहिए न ही नर सशक्तिकरण वरन चाहिए सम सह अस्तित्व . निरे नारी सशक्तिकरण
से न निरे नर सशक्तिकरण से समाज मेँ विक्रतियां ही उत्पन्न हुई हैँ .

सर्च in FACEBOOK

<manavatahitaysevasamiti>

1 टिप्पणी:

बेनामी ने कहा…

देखेँ